Skip to content Skip to sidebar Skip to footer

पार्टनर के साथ घूमने के लिए केरल की वायनाड जगह है बेहद खूबसूरत, हर कोई इसके आकर्षण का है दीवाना

Spread the love

वायनाड भारत के केरल राज्य में मौजूद है, जिसे खूबसूरत टूरिस्ट प्लेस के रूप में जाना जाता है। वायनाड में कई आकर्षित झरने, ऐतिहासिक गुफाएं, मंदिर और मस्जिदें मौजूद है। आपको बता दें कि वायनाड अपने मसालों के बागानों और वन्य जीव पार्क के लिए जाना जाता है। साथ ही वायनाड में घूमने के लिए कई और स्थान भी हैं, जो हर पर्यटक को अपनी ओर आकर्षित करते हैं।

अगर आप अपने पार्टनर के साथ केरल घूमने का प्लान बना रहे हैं, या हनीमून के लिए कोई बेस्ट जगह तलाश रहे हैं, तो हमारी सलाह है कि आप एक बार वायनाड की खूबसूरती को जरूर देखने जाएं। चलिए आपको इस लेख में वायनाड में घूमने लायक जगहों के बारे में बताते हैं….

वायनाड में बाणासुर बांध

वायनाड जिले में बाणासुर पहाड़ियों की गोद में स्थित एक खूबसूरत बाणासुर सागर बांध है। बाणासुर बांध देश का सबसे बड़ा मिट्टी का बांध है और एशिया का दूसरा सबसे बड़ा बांध है। बांध के ऊपर से विशाल जलाशय का दृश्य बेहद शानदार लगता है। यहां आप स्पीड बोटिंग, ट्रैकिंग जैसे रोमांच का लुत्फ उठा सकते हैं। पहाड़ी की चोटी से बाणासुर झील का नजारा मंत्रमुग्ध कर देने वाला होता है।

वायनाड का वन्यजीव अभ्यारण्य

वायनाड वन्यजीव अभयारण्य केरल में दूसरा सबसे बड़ा वन्यजीव अभ्यारण्य है और इसमें वनस्पतियों और जीवों दोनों की दुर्लभ और साथ ही लुप्तप्राय प्रजातियां शामिल हैं। यह तमिलनाडु में मुदुमलाई के संरक्षित क्षेत्रों के साथ-साथ कर्नाटक में नागरहोल और बांदीपुर से घिरा हुआ है। वर्ष 1973 में स्थापित, वन्यजीव अभ्यारण्य नीलगिरी बायोस्फीयर रिजर्व का एक अभिन्न अंग है। अभयारण्य 345 वर्ग किमी के क्षेत्र में फैला हुआ है और इसमें ऊपरी वायनाड और निचला वायनाड नामक दो भाग शामिल हैं। नीलगिरी, साथ ही बांस के पेड़, इस क्षेत्र में उगाए जाते हैं।

वायनाड का एडक्कल गुफाएं

अपनी उत्कृष्ट चट्टान और दीवार की नक्काशी के लिए प्रसिद्ध, यह पूर्व-ऐतिहासिक एडक्कल गुफाएं 96 फीट लंबी और 22 फीट चौड़ी हैं। गुफा के प्रवेश द्वार तक पहुंचने के लिए आपको डेढ़ घंटे और गुफा के मुहाने तक पहुंचने के लिए 45 मिनट का ट्रेक करना होगा। एडक्कल गुफाएं ऐतिहासिक और पुरातात्विक महत्व की हैं, जिसमें नक्काशी नवपाषाण युग, और पाषाण युग की गई है।

  •  
  •  

Leave a Comment