Skip to content Skip to sidebar Skip to footer

भीड़ से दूर भारत की ये जगहें हैं सैर-सपाटे के लिए बेहतरीन, जानें इनके बारे में सबकुछ

Spread the love

प्राचीन समय में भारत को विश्व गुरु का दर्जा प्राप्त था। ऐसा माना जाता है कि प्राचीन समय में शिक्षा स्थल का प्रमुख केंद्र भारत था। दुनियाभर से लोग भारत शिक्षार्थ हेतु आते थे। तत्कालीन समय में नालंदा विश्वविद्यालय इकलौता शिक्षा केंद्र था। आधुनिक समय में भी भारत अपनी सभ्यता और संस्कृति के लिए दुनियाभर में प्रसिद्ध है।

छितकुल तिब्बत सीमा

इतिहासकारों की मानें तो छितकुल तिब्बत सीमा के किनारे बसा भारत का अंतिम गांव है। यह गांव हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिले में स्थित है। इस गांव में कई हिल स्टेशन हैं। आप यहां हिमालय का दीदार कर सकते हैं। अगर आप शांति की तलाश में है, तो छितकुल गांव की जरूर सैर करें।

मोरेह, मणिपुर

मणिपुर में मोरेह म्यांमार से सटा हुआ है। पर्यटकों के लिए यह आकर्षण का केंद्र है। जीवन में एक बार मोरेह की खूबसूरती देखने जरूर जाएं। यहां का रहन-सहन, खानपान और बोलचाल म्यांमार की सीमा के किनारे बसे तामु शहर के समान है। यह खासियत दोनों देशों की सीमाओं को खत्म कर देती है।

धनुषकोडी, तमिलनाडु

आजादी से पूर्व धनुषकोडी अपनी खूबसूरती के लिए दुनियाभर में प्रसिद्ध था। हालांकि, साल 1964 में सुनामी के चलते धनुषकोडी पूरी तरह से बर्बाद हो गया। उस समय से यह शहर वीरान है। श्रीलंका से धनुषकोडी की दूरी महज 20 किलोमीटर है। अगर आप शांतिपूर्वक सैर सपाटे का आनंद उठाना चाहते हैं, तो धनुषकोडी की यात्रा जरूर करें।

  •  
  •  

Leave a Comment